इस आर्टिकल पर हम Essay on Tree Planting  “वृक्षारोपण” पर हिंदी में निबंध लिख रहे है जिन्हें पढ़कर कोई भी “वृक्षारोपण” पर निबंध लिख सकता है. यदि आप किसी विषय पर निबंध पढ़ना पसंद करते है. तो आज की लेख में आप “वृक्षारोपण” पर निबंध पढ़े..

“वृक्षारोपण” पर निबंध – Essay on Tree Planting

’वृक्षारोपण’ का अर्थ है – वृक्ष लगाना.

हमारे जीवन में वृक्षों का बहुत महत्व है. वृक्षों से हमें साँस लेने के लिए शुद्ध वायु प्राप्त होती है. वृक्ष हमारे मित्र हैं. ये हमे सुखद शीतल छाया देते है. वर्षा करने में सहायक होते है.

Essay on tree planting in hindi

ये हमे मीठे फल देते है. यही कारण है की हमारे देश में आम, पीपल, बरगद, नीम, तुलसी आदि वृक्षो की पूजा की जाती है. तुलसी का पौधा तो प्रत्येक व्यक्ति के घर आंगन में रहता है. सुबह-शाम इसकी पूजा होती है.

वृक्ष सदा से ही हमारे लिए बहुत उपयोगी रहे है. आदिम मनाव का जीवन तो वृक्षों पर ही निर्भर था. वे वृक्षों के फल खाकर और उसके पत्तों एवं छाल को ओड़कर जीवन बिताते थे.

Essay on “वृक्षारोपण” in Hindi

आज भी वृक्षों से हमे बहुत लाभ है. वृक्ष हमारी भोजन, वस्त्र एवं आवास सम्बन्धी आवश्यकताओं की पूर्ती करते हैं.

वृक्षों से हमे औषधी, जलावन की लकड़ी, फर्नीचर के लिए लकड़ी आदि मिलती है. इसके अतिरिक्त रबर, गोंद, लाख तथा अगर जैसी सुगंधित चीज़े वृक्षो से मिलती है.

वृक्ष हमारे पर्यावरण की रक्षा करते है. हरे भरे वृक्ष वर्षा करने में सहायक होते हैं. ये भूमि के कटाव को रोकते हैं. वृक्ष लगाना पूण्य का काम माना जाता है.

वृक्ष मनुष्य के साथ-साथ पशु-पक्षियों के भी मित्र हैं. पशुओ के लिए चारा वृक्षों से मिलता है. पक्षी वृक्षो पर अपना घोसला बनाते है.

आजकल बढ़े पैमान पर वृक्ष लगाये जा रहे है. हमारी सरकार भी अब वृक्षरोपण पर बहुत ध्यान दे रही है. देश में वृक्षारोपण के कार्यक्रम चलाये जा रहे है.

विद्धालयो में वृक्ष लगाने की शिक्षा दी जा रही है. हमे भी अधिक से अधिक संख्या में वृक्ष लगाने चाहिए.

निष्कर्ष

इस लेख में हमने “वृक्षारोपण” पर निबंध हिंदी में (Essay on Tree Planting In Hindi) शेयर किया हुआ है. मुझे उम्मीद है की यह निबंध आप जरुर पसंद करेंगे.

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो कृपया सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जैसे Facebook, Twitter या Whatsapp पर शेयर जरुर करे. नई पोस्ट की Update के लिए Subscribe करना ना भूले.

आपको ये भी पढ़नी चाहिए 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here